UP BHULEKH | यूपी भूलेख ऑनलाइन खसरा खतौनी नकल जमाबंदी

उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा भूमि की जानकारी को कंप्यूटरीकृत कर दिया गया है। इसका मुख्य उद्देश्य यह है कि राज्य के नागरिकों को सुविधा मिल सके। सरकार की इस योजना से राज्य में सभी जगह के भूमि की जानकारी को ऑनलाइन कर दिया गया है इसमें जमाबंदी, भूमि अभिलेख, भूमि का ब्यौर, खेत के कागज, नक्शा, खाता, खतौनी आदि को उत्तर प्रदेश की भूमि रिकॉर्ड मैं ऑनलाइन कंप्यूटरीकृत कर दिया गया है। Up bhulekh portal मैं अब सरकार द्वारा राज्य की सारी जमीन का विवरण ऑनलाइन मिल जाता है। Up bhulekh का मतलब यह है कि भूमि से संबंधित सारी जानकारी जो कि अलग-अलग नाम से जानी जाती है जैसे खाता खतौनी भूमि अभिलेख जमाबंदी इत्यादि को राजस्व विभाग द्वारा एक सूत्र में बांधा गया है।

उत्तर प्रदेश भूलेख का मुख्य उद्देश्य था कि जो भी लोग जमीन की खरीद-फरख्त में गड़बड़ी करते हैं। और कई लोगों को धोखे से एक ही जमीन को गलत नाम बता कर बेच देते हैं। इस समस्या से नागरिकों को बचाने के लिए सरकार ने यह सुविधा ऑनलाइन की है। आगे हम आपको यह बताएंगे कि जमीन की जानकारी ऑनलाइन कैसे मिलती है और आप जमाबंदी खसरा खतौनी की नकल कैसे निकाल सकते हैं और अन्य जमीन संबंधी जानकारी आपको कैसे मिल सकती है।

UP Bhulekh | उत्तर प्रदेश (यूपी) भूलेख

भूले को कंप्यूटरीकृत करने का मुख्य उद्देश्य यह है कि जिससे नागरिक अपनी जमीन पर अपना मालिकाना हक जता सकें और अपनी जमीन का सारा विवरण खुद ही देख सकें। किसानों को भी इससे बहुत फायदा होता है वह किसान क्रेडिट कार्ड बनवा सकते हैं जिसके लिए कि खाता खतौनी की जरूरत पड़ती है।किसानों को यह पता चल जाता है कि उनके नाम पर कितनी जमीन है। उसी से उनको किसान क्रेडिट कार्ड मिलने में आसानी होती है। जमीन के कागजात पर आसानी से लोन मिल जाता है जिससे कि नागरिक अपना घर भी बना सकता है और कोई व्यवसाय भी शुरू कर सकता है। सरकार द्वारा बहुत से व्यवसायियों के लिए अपनी जमीन होना आवश्यक है। किसान फसल बीमा भी जमीन के आधार पर ही ले सकते हैं।

Up bhulekh की ऑनलाइन सुविधा प्राप्त करके नागरिक अपने जमीन के कागजात निकाल सकते हैं जो कि उनके बहुत से चीजों में काम आते हैं।

यूपी भूलेख :खसरा खतौनी जमाबंदी नकल ऑनलाइन | UP Bhulekh Online

आपको अपनी खतौनी की नकल उत्तर प्रदेश भूलेख की वेबसाइट से डाउनलोड या देखने के लिए उसकी आधिकारिक वेबसाइट में जाना होगा जो की है

वेबसाइट के होमपेज में ऑनलाइन सुविधाओं की लिस्ट टीवी है जिसमें कि आपको खतौनी अधिकार अभिलेख की नकल देखें वाले बिंदु पर क्लिक करना होगा

उस पर क्लिक करने के बाद आपने पेज में आ जाओगे जिसमें कि कैप्चा कोड भरने को कहा जाएगा यह कैप्चा कोड भरने के बाद इसे सबमिट कर दीजिए।

इसके पश्चात एक नया पेज खुलेगा जिसमें आपको अपना जिला तहसील ग्राम खसरा खतौनी नंबर सर्वे नंबर या पट्टे की जानकारी सब चीजों को क्रमवार चुनना होगा।

पहले अपनी जिले को चुनने के बाद अपनी तहसील को और फिर उसके बाद अपने गांव को चुने।यदि आपको सूची में अपना गांव का नाम नहीं दिख रहा है तो अपने गांव का पहला अक्षर सेलेक्ट करके उस पर क्लिक करें।

गांव के नाम आने के बाद आपको अपनी जानकारी देनी पड़ेगी। इसमें आपको अपनी जमीन का खसरा गाटा संख्या द्वारा या खाता संख्या द्वारा या खातेदार के नाम द्वारा या नामांतरण दिनांक से खसरे की नकल को सकते हैं।

उसके बाद बाकी बची की जानकारी और आवश्यक चीजें भरें।

सारी जानकारी बनने के बाद आपको भूलेख की जानकारी आपको आपके कंप्यूटर पर दिखाई देगी जिसे आप डाउनलोड नहीं कर सकते हैं और सीधे प्रिंटआउट भी निकाल सकते हैं।

प्रश्न: राजस्व विभाग की वेबसाइट में जाकर ग्राम का कोड कैसे जाने?

उत्तर: गांव का कोड जानने के लिए आपको उत्तर प्रदेश राजस्व विभाग की वेबसाइट में जाकर होम पेज में राजस्व ग्राम खतौनी का कोड जाने वाले लिंक पर क्लिक करना होगा और फिर क्लिक करके अपना जिला चुनना होगा। जिले के बाद आपको अपनी तहसील को चुनना होगा। तहसील के बाद ग्राम की लिस्ट आ जाएगी जिससे आपको अपना गांव सेलेक्ट करना होगा उसके पश्चात आप अपने गांव के नाम के सामने अपना ग्राम का कोड देख सकते हैं।

प्रश्न: गांव में किसी गाटे का यूनिट को कैसे जाने?

उत्तर: जिस प्रक्रिया से ऊपर आपने राजस्व ग्राम खतौनी का कोड जाकर ढूंढा है। उसी प्रकार भूखंड  यूनिकोड भी जान सकते हैं।आपको वही प्रक्रिया द्वारा अपना गाटे का यूनिकोड मिलेगा सबसे पहले आपको ऑफिशल वेबसाइट में जाकर अपना जिला फिर अपनी तहसील और फिर अपना गांव चुनना होगा उसके बाद आपको अपनी भूखंड या गाटे का यूनिकोड मिल जाएगा।

प्रश्न: गांव में गाटे की या भूखंड की विवाद ग्रस्त होने की स्थिति तुम्हें क्या करें?

उत्तर: जैसे गाटे का कोड जानने के लिए प्रक्रिया करते हैं वैसे ही इसके विवाद ग्रस्त होने पर हम उसकी स्थिति जा ऑनलाइन जान सकते हैं। प्रक्रिया एक जैसी ही है इसमें भी आपको आधिकारिक वेबसाइट में जाकर अपना जनपत तहसील चुन के अपने गांव को चुन के अपने भूखंड की स्थिति की जानकारी ले सकते हैं।

 

 

1 Comment
  1. मुसताकखान says

    पिपरहवजोगागावा

Leave A Reply

Your email address will not be published.